हिन्दी | বাংলা | অসমীয়া |
स्‍तनपान हैजा की गति और उसकी गंभीरता को कम कर सकता है। हैजा पीड़ित छोटे बच्‍चे के लिए खाने और तरल पदार्थ का सर्वोत्तम स्रोत मां का दूध है। यह पौष्टिक और साफ होता है तथा बीमारी और संक्रमण से लड़ने में मदद करता है। एक शिशु जो केवल मां का दूध पीता हो, उसे हैजा होने की आशंका कम होती है।

स्‍तनपान हैजा की गति और उसकी गंभीरता को कम कर सकता है। हैजा पीड़ित छोटे बच्‍चे के लिए खाने और तरल पदार्थ का सर्वोत्तम स्रोत मां का दूध है। यह पौष्टिक और साफ होता है तथा बीमारी और संक्रमण से लड़ने में मदद करता है। एक शिशु जो केवल मां का दूध पीता हो, उसे हैजा होने की आशंका कम होती है।

मां का दूध निर्जलीकरण (डिहाइड्रेशन) और कुपोषण रोकता है और नुकसान हुए फ्लुयड्स की पूर्ति करता है। हैजा से पीड़ित बच्‍चे की मां को कई बार कम दूध पिलाने की सलाह दी जाती है। यह सलाह गलत है।

जब बच्‍चा हैजा से पीड़ित हो तो उसे आमतौर पर जितनी बार दूध पिलाया जाता है, उससे अधिक बार स्‍तनपान करवाना चाहिए।